Covid 19 कोरोना वायरस की बजाय से डरे नही

Covid 19 कोरोना वायरस अद्यतन, डरे नही सुरक्षित रहे:

कोरोना वायरस पुरे दुनिया में फैला हे, विश्ब के सभी देशों के लोग इस वायरस को लेके चिंतित हे, इसके पीछे चाइना की साजिश हो या फिर, दुनिया के तमाम राष्ट्रनेताओ की नाकामियों की बजह से हो,  पर भारत देश में रहने वाले हमको उतना विचलित होने की जरूरत नही हे, क्यू की हमारे देश महान हे, हमारा हिन्दू संस्कृति वैज्ञानिक व् प्रमाणिक है।

Covid-19-कोरोना-वायरस-की-चित्र
Covid 19-कोरोना-वायरस-की-चित्र

Covid 19 कोरोना वायरस पर निबंध:

हलाकि अभी कोरोना की प्रोतिशेधक आ गया है, फिर भी हमे सतर्क रहना चाहिए पर डरना नही चाहिएं क्यू की कोरोना वायरस से पहले भी अर बड़े बड़े वायरस भी आया हे पर कोई भी वायरस भारत देश में अपना पैर जमा नही पाया है। कोरोना वायरस भी ज्यादा दिन तक रह नही पायगा । बस हमे तोड़ी साबधानी बरतने की जरुरत हे, जो सरकार दुवारा बार बार बताया भी जा रहा हे।

कुछ मजहबी व् पश्चिमी गांडू अकसर हिन्दू संस्कृति व् हिन्दू धर्म की मझाक उड़ाते है, हिन्दुओ को निचा दिखने की कौशिश करते है, पर वही धूर्त लोग भी अभ् कोरोना वायरस की डर से हिन्दू संस्कृति अपना रहे हे । नमस्ते करना , मास्क लगाना ये हिन्दू संस्कृति का ही देन हे , आप लोगोने शायद देखा भी होगा अक्सर हिन्दू लोग जव आपसे में मिलते हे तब एक दूसरे को नमस्ते कहते हे,

हिन्दू परम्परा में ऐसे भी बहुत सारे साधू सन्त होते हे जो हमेशा मुँह पे मास्क लगाके बात करते हे , ये सिर्फ धर्म ही नही वैज्ञानिक भी हे, जो अर एकबार सिद्ध हुआ हे, अर परम्परा हिन्दू धर्म में हजारो लाखो साल से चली आ रहा हे।

इस कोरोना वायरस का जन्म तामसिक भोजन अर्थात मांस से हुआ हे, WHO के मुताबिक चीन के एक सी मार्केट से ही इस वायरस का संक्रमण हुआ हे अर इस मार्केट में क्या क्या खाने का चीज बिकता हे ये बताने की जरूरत नही हे।

हिन्दू संस्कृति हमेशा ही सत्तिक भोजन की बात करता हे, इसलिए प्रयास करे जितना हो सके सात्तिक भोजन ही करे। जानवर की मांस खाना लोगो को बहुत भारी पर रहा हे। अभ् भी वक्त हे हिन्दू संस्कृति को दिल से अपनाईए कमसे कम अपनी बचाब के लिए सही…

क्यू की सात्तिक भोजन से ही तो माँ आद्याशक्ति की करुणा मिल सकता हे, अर जिनको माँ आद्याशक्ति का करुणा मिले उसे कोरोना वायरस हमला नही कर सकता हे।

अर जंहा ज्योतिष शास्त्रो की बात, ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में गुरु, राहु व् केतु ग्रहो बुरे होने पर कोई जातक वायरस गठित बीमारी से ज्यादा ग्रसित होता हैं, अर दिखा जय तो इस कोरोना वायरस पैदा भी हुआ हे गुरु व् केतु ग्रहो की अशुभ युति में। इसलिए जिनकी जन्मकुंडली में गुरु, केतु व् राहु ग्रहो पाप प्रभाव में हे वो लोग जयदा सावधानी बरते।

Covid 19 कोरोना वायरस पर निबंध, डरे नही सतर्क रहे  जैसे:-

covid-19-कोरोना-वायरस-से डरे-नही
Covid 19 कोरोना वायरस पर निबंध

१)सात्तिक भोजन करे व् गले में एक तुलसी माला जरूर पहने हो सके तो हर दिन सुबह ४-५ तुलसी पत्ता जरूर खाइए।

२)हाथ मिलाके भाईचारा दिखाने से बचे, राम राम या सीता राम कहते हुए नमस्ते करें।

३)मुँह पे मास्क जरूर लगाय, भिर भार इलाके में जाने से बचे। एवं सरकार के दुवारा जारी किए गए सभी निर्देशो का पलन करे जरूरत पड़ने पर जरूर सरकार की हेल्प लाइन नम्बर पर सम्पर्क करे।।

 करोना वायरस को लेके कुछ गांडू किसीमके लोग कुछ दिनों से फेसबुक एवं दूसरे सोशल साईट पे तरह तरह के अफ़बह फैला रहे हे, तो कुछ मक्कार लोग कह रहे देश में मन्दिर की किया जरूरत हे क्यू की बीमार होने पर हॉस्पिटल की जरूरत हे , अर कुछ मक्कारो ने तो हद कर दिए सीधा साधू सन्त व् तांत्रिको के पर सवाल उठा रहे है।

कोरोना वायरस पर निबंध, हिन्दू साधू संत की भूमिका :

astrological-remedies-store

उनका तो कहना हे देश में इतने साधू सन्त तांत्रिक हे वो किस काम के क्यू साधना से वायरस के खिलाफ कुछ नही कर पा रहे है।

में उन्ह सारे मूर्खो को बोलना चाहता हूँ कोई भी साधू सन्त व् तांत्रिक किसी के बाप के गोलाम् नही है अर दूसरी बात मुसीबत या बीमारी से बचाने के लिए किसी साधू सन्त व् तांत्रिक ने कोई ठेका नही लेके रखा है और न ही सरकार की तरफ से किसी साधू सन्त या तांत्रिक को जिम्मेदारी दिया गया है।

सवाल तो उन्ह मक्कार चिकित्सा बिज्ञानिओ के ऊपर उठाना चाहिए , प्रशाशन व् सरकार के ऊपर उठाना चाहिए , आखिर ये लोग कर किया रहे हे ?? देश की खजाने से लाखो कड़ोड़ रुपया खर्चा करवाने वाले हर महीना अपना मोटा तनका लेने वाले चिकित्सा सिस्टम क्यू नाकाम हो रहे हे ??, अभ् तक क्यू कोरोना वायरस के कोई टीका या प्रतिषेधक नही बना पाये ????

सिर्फ ताली और थाली बजाने से काम हो जायगी ??? देश के कोई भी तांत्रिक या साधू सन्त ने सरकार से कभी एक रुपया तनका नही लेते हे। और न ही सरकार की तरफ से किसी तांत्रिक या साधू सन्तों को वायरस की प्रतिषेधक या दवाई ढूंढने का जिम्मेदारी दिया गया हे, इसलिए सवाल उठाना हे तो चिकत्सा बिज्ञानी , चिकित्सक व् सरकार की नाकामी के खिलाफ उठाना चाहिए।

अर जंहा रही मन्दिर की बात तो मन्दिर धर्म का प्रतिनिधित्व करता हे बीमारी का नही अर हॉस्पिटल बीमारी का प्रतिनिधित्व करता , बीमारी से लड़ना और उनका प्रतिषेधक ढूंढना चिकत्स

Covid-19-कोरोना-वायरस-के-लक्षण
Covid 19 कोरोना वायरस द्धारा आक्रांत फुसफुस Covid 19 कोरोना वायरस पर निबंध

बिज्ञानी का काम हे साधू सन्त या तांत्रिक काम नही हे, ये मामूली बात भी कुछ मक्कार लोग समझते नही हे। फिर भी हम कहते हे देश के तमाम चिकित्सा बिज्ञानी व् वेवस्था अगर नकाम रहती हे तो सरकार की तरफ से साधू सन्त व् तांत्रिक को इसका जिम्मेदारी दिया जाय, हमे पूरा बिश्वास हे देश के साधू सन्त तांत्रिक सब मिलके जरूर इसका प्रतिषेधक ढूंढ निकल लेंगे।

क्यू की हमारे धर्म में ऐसे बहुत सारे बेवस्था दिए गए है , जिससे वायरस ही नही वायरस की बाप से भी लड़ने का उपाय निकाला जा सकता हे। अगर लोग धर्म की मार्ग पर चलते तो करोना वायरस पैदा ही नही होते, अर ये बात तो सब जानते भी है, क्यू की करोना वायरस पैदा ही हुआ हे तामसिक भोजन से।

अभ् भी वक्त हे हिन्दू संस्कृति की मार्ग पर चलिए । हिन्दू साधू सन्त व् तांत्रिको का मझाक मत उड़ाइए , अपनी धर्म पर सवाल मत उठाइए व् अफवाह मत फैलाइए।

Covid-19-कोरोना-वायरस-की-चित्र
Covid 19 कोरोना वायरस पर निबंध-की-चित्र

 करोना वायरस की खतरे से बचने का कुछ वैदिक उपाय: (Total Vedic Solution)

१)अपनी आसपास की बाताबरण को शुद्ध रखने के लिए देशी गाय की दूध से बना घी, आम की लकड़ी, तेजपत्र, कर्पूर व् गुग्गुल मिलाके घर के आँगन में एवं घर के अंदर धुओं दे।

२)हर दिन श्याम के वक्त 3 से 7 शंख धनी दीजिए, साथ में घण्टा व् कांसी भी बजा सकते हे। हिन्दू शास्त्रो के मुताबिक शंख धनी से हवा में मजूद सरे विजाणु मर जाता हे।
३)हमेशा सात्तिक भोजन करे , हो सके तामसिक भोजन न करे , क्यू की तामसिक भोजन ही सारे बीमारी का जड़ है। करोना वायरस भी तामसिक भोजन से ही पैदा हुए है।

disclaimer-cookie-policy-for-website-anupam-mohanta
Book Your Astrology Appointment

४)भीड़ भार इलाके में जाने से बचे , घर में रहके भजन कीर्तन करे , भगवान से प्रार्थना करे।
५)हो सके तो गले में एक तुलसी माला पहन के रखे, क्यू की तुलसी माला पहने से शरीर में कोई भी जिवणु आक्रमण नही कर सकता। सुबह नींद से उठके 4-5 पत्ते तुलसी पत्ता, तोडा सा गोमूत्र व् गिलोय का रस ग्रहण करे।

६)बाजु में या गले में 1-2 रुद्राक्ष की दाना भी पहन सकते हे। क्यू की रुद्राक्ष पहने से आयु बड़ती हे, शिव जी की कृपा प्राप्त होती हे एबं शरीर में अतिरिक्त ह्यूमैनिटी आता है।
७)हर दिन 30 मिनट तक कपालभाति, शीतली, नाड़ीशोधन जैसी प्राणायाम व् योगा कीजिए इससे आप फिट रहेंगे , जितना फिट रहेंगे उतना ही खतरा कम होगा

८)समय समय पर अपना हाथ नीम पत्ते की रस से साफ करे, क्यू निम् कीटाणु नाशक होते हे। इससे आपकी हाथों में जितने भी कीटाणु या वायरस रहेंगे वो सब नष्ट हो जायगी ।
९)अपने मुँह पे एक मास्क या फिर रुमाल बांध करके रखे। या तो कपड़े से अपना मुँह डक्के रखके , इससे हवा में मजूद कोई ही कीटाणु या वायरस हो शरीर के अंदर नही प्रवेश करेगी।
१०)हमेशा गर्म पानी पिए, हो सके तो हर दिन तोड़ा सा मधु एवं एलोवेरा जूस जरूर पिए।
इन्ह छोटी छोटी उपाओ को अगर अपनाते है तो वायरस की बाप भी आपका कुछ बिगड़ नही सकता ।।ॐ शांति ॐ।। Most Powerful Remedies Covid 19 कोरोना वायरस पर निबंध प्रुरा पड़ने के लिए आपको धन्यबाद ।

    Translate »